Shabar Laxmi Mantra  शाबर लक्ष्मी मंत्र : संत तुलसीदास जी ने अपने अदभुत ग्रन्ट श्री रामचरितमानस में ,लोक कल्याण हेतु लिखा है 

“कली विलोकि जगहित हर गिरिजा। साबर मंत्रजाल जिन्ह सिरजा॥ अनमिल आखर अरब न जापू । प्रगट प्रभाव महेस प्रतापु ॥”

संत तुलसीदास जी ने यह दोहा इसीलिए लिखा क्यू की कलिकाल में सामान्य व्यक्ति वेद और शास्त्रीय मंत्रो का उच्चारण और असाध्य विधि का पालन करना असंभव सा था ।

READ:  Why Diwali Is Celebrated?

इसीलिए शास्त्रों के ज्ञांता ने ( यहाँ में नाथ संप्रदाय के सम्बन्ध में बोल रहा हु ) लम्बे चौड़े मंत्रो की अपेक्षा अत्यंत ही सरल हिंदी वाक्य में उच्चारित मंत्रो का प्रादुर्भाव किया  ।

शास्त्रीय मंत्र जहा लम्बे और उच्चारण में कठिनाई पैदा करते थे ,वही शाबर मंत्र शुद्ध हिंदी में उच्चारण होते है जो की सामान्य  मानवी के लिए सुगम होता है ।

दूसरी महत्त्वपूर्ण बात यह है की अन्य मंत्र जहा कीलित है वही शाबर मंत्र सर्व कीलन से मुक्त है ( कीलन का अर्थ – हर मंत्र का बंधन किया होता है , हर मन्त्र लॉक्ड- Locked होता ) जैसे ताले को चाबी से ही खुलेगा , वैसे ही प्रत्येक मंत्र को खोलने की विधि को मन्त्र शास्त्र में उसे मन्त्र उतकीलन कहते है ।

पर हर एक मंत्र अनुष्ठान , हवन, पूजा  में साधक का मंत्र , गुरु और देवी-देवता पर पूरी श्रद्धा और विश्वास होना जरूरी है ।

इस दिवाली २०१९  Deewali 2019 में शुभ अवसर पर महालक्मी से सम्बंधित एक गोपनीय Shabar Laxmi Mantra लक्ष्मी शाबर मंत्र  प्रस्तुत कर रहा हु , जो दरिन्द्रता को मिटाने में समर्थ है ।

इस Shabar Laxmi Mantra  शाबर लक्ष्मी मंत्र  से निम्न लिखित लाभ प्राप्त होता है  ।

१) घर में पैसे ही तंगी अगर रहती है तो दूर होती है ।

२) नौकरी में पद्दोनति होती । ( Job Promotion )

३) व्यापार अगर नया हो या पुराण हो , उसे सर्वोच्छ शिखर पर ले जाने में यह Shabar Laxmi Mantra  शाबर लक्ष्मी मंत्र : प्रयोग सहायक है ।

४) व्यापार में या रोजिंदा जीवन में अगर पैसे किसी को दिए हो या पैसे वापस लेने हो तो यह बहुत प्रभावशाली मंत्र है ।

५) व्यापारिक बाधा दूर होती है ।

६) धन का आगमन सुरु हो जाता है ।

Shabar Laxmi Mantra  शाबर लक्ष्मी मंत्र प्रयोग विधि :

१) यह साधना दिवाली के ३ दिन पूर्व करनी है  – अर्थांत आश्विन कृष्णा पक्ष १२ ( द्वादशी ) की रात को करे ।

२) रात्रि १० बजे स्नान कर उत्तर दिशा की और बैठे ।

३) पुरुष हो तो पीली धौति पहने , स्त्री हो तो पीली साडी पहने ।

४) सामने बाजोट पर पीला आसान ( देवता के लिए ) रखे ।

५) लक्ष्मी का चित्र रखे और उसके सामने एक मुट्ठी काले तिल, ७ काली मिर्च के दाने और १ लोहे का कील एक – इन सारी चीज़ को एक काले कपडे पर रखे ।

६) १ तेल का दीपक जलाये । ( तेल किसी भी प्रकार का ले सकते है  )

७) नीचे लिखे Laxmi Shabar Mantra लक्ष्मी शाबर मंत्र की १० माला फेरे ( १ माला में १०८ मनके होते है )

Shabar Laxmi Mantra  शाबर लक्ष्मी मंत्र :

ॐ नमो काली कंकाली भैरव हुक्मे हाज़िर रहे , मेरा कारज तुरंत करे , घर की गरीबी दरिद्रता बांधे शरीर बांधे , कोटा बांधे , उसका अंग अंग बांधे , उठाके गिरे , गिराकर उठावे , घर से दूर भगावे , चोट पर चोट करे , मेरा कारज सिद्ध करे , कालिके पुत्र कंकाल भैरव फुरो मंत्र ईश्वरो वाचा ॥

इस Shabar Laxmi Mantra  शाबर लक्ष्मी मंत्र की जब १० माला पूरी हो जय तब मिट्ठी की एक हंडिया में काले वस्त्र समेत सारी सामग्री ( कला तिल , लोहे का कील और मिर्च के दाने ) सड़क के बीच ( जो सुमसान सड़क हो ) रख दे और पानी का लोटा भी साथ में रखे जिससे हंडिया के चारो कर पानी का घेरा बना सके , बचा हुआ पानी वही रख दे।

लोटा अपने साथ लेकर घर आवे और हंडिया को वही छोड़ दे ।

घर आते वक्त मुड़कर पीछे नहीं देखे , डरने की जरूरत नहीं , यह एक सरल मंत्र प्रयोग है जो नाथ संप्रदाय से उद्धृत है ।

नोट : शाबर मंत्र को वैसे ही उच्चारण कर जैसे बताया गया है , उसे अपनी सोलियत Convenience के हिसाब से फेर बदल न करे वरना मंत्र का प्रभाव शून्य होगा ।

यह Shabar Laxmi Mantra  शाबर लक्ष्मी मंत्र  प्रयोग करने से दरिद्रता का नाश होता है और घर परिवार के शांति प्राप्त होती है ।

आप सभी को दीवाली २०१९ की शुभ कामना 

आभार ,

नीरव हिंगू